खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • Bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • Čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • Русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • Polski
  • Italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • अन्य
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • Bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • Čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • Русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • Polski
  • Italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • अन्य
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

अपने कर्म के अनुसार खायें, 6 का भाग 2

विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो

इसलिए, यदि आप वास्तव में हमेशा के लिए दुख से दूर रहना चाहते हैं और उच्च आयाम में जाना चाहते हैं, आनंद, खुशी और सच्ची मुक्ति का आनंद लेना चाहते हैं, तो आपको तीन अदृश्य दुनियाओं से परे, सूक्ष्म से ब्रह्म दुनिया तक जाना होगा। […] यदि आपको ऐसा कोई मास्टर मिल जाए, और आपका स्तर अभी भी इतना कम है – उदाहरण के लिए, कि आप केवल तीसरी दुनिया तक ही पहुँच सकते हैं, उससे आगे नहीं - तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि आपका मास्टर वास्तव में प्रबुद्ध और सच्चा, शक्तिशाली मास्टर है, तो वह तब तक आपको आशीर्वाद देना और सिखाना जारी रख सकता है जब तक कि आप तीन विनाशकारी दुनियाओं से ऊपर नहीं निकल जाते। […]

आप दूसरों का जो भी नुकसान करने से बच सकते हैं, वही आपके लिए बहुत मददगार होता है। यह आपको पुण्य दिलाएगा; यह आपके कर्म को साफ़ कर देगा। लेकिन यह परम मुक्ति या बुद्धत्व या भगवान के घर जाने या भगवान के साथ एक होने का रास्ता नहीं है। जीवन-दर-जीवन, हम अपने कई जन्मों में विभिन्न प्राणियों से लेते और देते हैं और इस जीवनकाल में भी देना और लेना जारी रहता है। इसलिए, जो कुछ भी आपको लगता है कि आप वहन कर सकते हैं और ले सकते हैं, जैसे भोजन, कपड़े, बस संयमित रहें। लेकिन अपने आप को मजबूर मत करो। अतिवादी मत बनो। यदि किसी कारण से मुझे दिन में एक से अधिक बार खाना पड़े, तो कर्म के अनुसार मुझे खाना पड़ेगा। कभी-कभी यह एक समय में बहुत अधिक कर्म होता है, यह अत्यधिक होता है। मुझे वही करना है जो मुझे करना है। लेकिन मैं

दिन में एक बार भोजन क्यों पसंद करती हूँ? उदाहरण के लिए, तीन महीने के अवकाश पर, मैंने केवल वही लिया: तिल, भूरे चावल, नमक और पानी - इससे अधिक कुछ नहीं, यहाँ तक कि फल या कोई अन्य चीज़ भी नहीं। ऐसा सिर्फ इसलिए है क्योंकि उस तरह से जीना अधिक सरल है, और आप फिर भी जीवित रह सकते हैं। और रिट्रीट के दौरान, यह अधिक कठिन होता है कि लोग आपके लिए भोजन लाते रहें, क्योंकि आप शांति में, एकांत में, मौन में रहना चाहते हैं; अकेले रहना, आंतरिक आध्यात्मिक संपदा पर चिंतन करना; ईश्वर के करीब होना, ईश्वर के साथ एक होना। इसलिए, भोजन या कपड़ों से होने वाली हर जटिलता से बचना बेहतर है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह वर्जित है।

लेकिन अगर मुझे भगवान की इच्छा से, स्वर्ग के आदेश से, या दुनिया के कर्म से दिन में एक से अधिक बार खाना पड़ेगा, तो मैं ऐसा करूंगी। मैं एक दिन में एक भोजन या एक दिन में कई भोजन से जुड़ी नहीं हूँ; जो भी ईश्वर की इच्छा होगी, मैं वह करूँगी। तो अब, यदि आप सोचते हैं कि भगवान चाहते हैं कि आप दिन में एक बार भोजन करें बेशक- यदि भगवान आपसे कहते हैं, या यदि आप सहज रूप से सोचते हैं कि आपको अपने जीवन के साथ इसी तरह चलना चाहिए, तो कृपया इसे आज़माएँ। लेकिन सावधान रहें और हमेशा देखें कि क्या आपका शरीर, आपका दिमाग, आपका मानसिक, शारीरिक, भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक, बौद्धिक शरीर आदि, आप जो कर रहे हैं उससे सहमत होंगे। नहीं तो आप खुद को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

कुछ लोग मास्टर के साथ या मास्टर के बिना भी, चरम सीमा तक जा रहे हैं, जैसे कि श्वास-प्रश्वास का रोगी बनना। और उनमें से कुछ लोग, दुःख की बात है, अपनी जान गँवा देते हैं। आपके मास्टर ने आपको जो अभ्यास करने का निर्देश दिया है, उन्हें जारी रखने के लिए आपको इस भौतिक शरीर की आवश्यकता है - ताकि आप इस दुनिया में रहते हुए भी स्वर्ग में ऊंचे और ऊंचे आयामों तक पहुंच सकें, ताकि आप खुद को मुक्त कर सकें, आपकी कई, कई पीढ़ियाँ, और साथ ही आसपास के वातावरण को भी आशीर्वाद दें, दुनिया को भी आशीर्वाद दें। इसलिए, आपके अभ्यास की अवधि बहुत महत्वपूर्ण है। किसी भी आदर्श या किसी मनगढ़ंत बात या किसी भ्रामक सोच से अपने जीवन को छोटा करने की कोशिश न करें, उदाहरण के लिए, कि तपस्वी होने से आपको मुक्ति मिलेगी। नहीं, नहीं। आपको इसे सही तरीके से करना होगा, चाहे आप जो भी करने के लिए पैदा हुए हों।

और यहां तक ​​कि ध्यान भी - कोई भी ध्यान आपको मुक्ति की ओर नहीं ले जाता है। मैंने सारी दुनिया देखी है। लोग हर तरह से, हर तरह की चीज़ों पर ध्यान करते हैं। उनमें से अधिकांश के पास निचले मास्टर की गलत विधि है और वे तीसरी दुनिया से आगे नहीं बढ़ सकते हैं। एक गलत, निम्न-स्तरीय मास्टर आपको न केवल आध्यात्मिक रूप से, बल्कि कई पहलुओं में नुकसान पहुँचा सकता है!!! और यदि आप तीसरी दुनिया से आगे नहीं बढ़ सकते हैं, तो इसका मतलब है कि आपको भौतिक शरीर, भौतिक जीवन, या तो इस ग्रह पर या ब्रह्मांड में किसी अन्य ग्रह पर लौटना होगा। यह एक दुखद बात है कि कई उत्साही राक्षसों या सूक्ष्म राक्षसों ने भी खुद को पुजारी या भिक्षुओं और ननों के रूप में, आध्यात्मिक मास्टर के रूप में प्रस्तुत किया, और बहुत से, बहुत से, बहुत से संवेदनशील प्राणियों को आध्यात्मिकता के निचले रास्ते या पथ पर जाने के लिए गुमराह किया। मैंने वह देखा और मुझे बहुत दुख हुआ। लेकिन आपके पास जो भी कर्म हैं, आप उसी तरह से अपने जीवन को आगे बढ़ाएंगे, जब तक कि कोई चमत्कार न हो जाए कि आप एक प्रबुद्ध मास्टर से मिलें और आपको तीन लोकों से परे सच्ची मुक्ति तक ले जाने के लिए एक सच्ची, सुरक्षित, गारंटीकृत आध्यात्मिक ध्यान विधि प्राप्त हो।

हम वास्तव में चार विश्व कह सकते हैं, जब इसमें मानव जगत भी शामिल हो। मानव जगत, सूक्ष्म जगत, कारण जगत और ब्रह्म जगत - ये सभी लोक एक न एक दिन नष्ट हो जायेंगे। बौद्ध शब्दावली में, बुद्ध ने इसे "तीन दुनिया" कहा – जिसका अर्थ है कि हमारी भौतिक दुनिया जिसे हम देख सकते हैं, छू सकते हैं, सुन सकते हैं और अनुभव कर सकते हैं, इसमें शामिल नहीं है। यह अलग है। अन्य तीन लोक, जैसे सूक्ष्म, कारण और ब्रह्म लोक, नग्न आंखों के लिए अदृश्य हैं। कभी-कभी आप उन्हें देख सकते हैं; यह आपके कर्म और आपके पिछले जीवन के आध्यात्मिक संबंध पर निर्भर करता है। लेकिन अधिकांश लोग इन तीन दुनियाओं को नहीं देखते हैं। मुक्त होने के लिए आपको ये तीन लोक पार करने होंगे। इसका मतलब है कि आप कभी भी इस भौतिक दुनिया या किसी अन्य भौतिक दुनिया में वापस नहीं आते हैं - या तो एक इंसान, जानवर(-व्यक्ति), पेड़, पौधे, या फिर एक राक्षस, भूत या नरक प्राणी बनकर। इसलिए, यदि आप वास्तव में हमेशा के लिए दुख से दूर रहना चाहते हैं और उच्च आयाम में जाना चाहते हैं, आनंद, खुशी और सच्ची मुक्ति का आनंद लेना चाहते हैं, तो आपको तीन अदृश्य दुनियाओं से परे, सूक्ष्म से ब्रह्म दुनिया तक जाना होगा।

वास्तव में आपके लिए तीसरी दुनिया से परे ले जाने के लिए एक मास्टर को ढूंढना बहुत मुश्किल है। यदि आपको ऐसा कोई मास्टर मिल जाए, और आपका स्तर अभी भी इतना कम है – उदाहरण के लिए, कि आप केवल तीसरी दुनिया तक ही पहुँच सकते हैं, उससे आगे नहीं - तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि आपका मास्टर वास्तव में प्रबुद्ध और सच्चा, शक्तिशाली मास्टर है, तो वह तब तक आपको आशीर्वाद देना और सिखाना जारी रख सकता है जब तक कि आप तीन विनाशकारी दुनियाओं से ऊपर नहीं निकल जाते। लेकिन वास्तव में तपस्या से आप शायद ही वहां तक ​​पहुंच सकते हैं। आपको शुद्ध, दृढ़ हृदय की आवश्यकता है। यदि आप ऐसा कर सकें, तो भी यह बहुत-बहुत कठिन है। क्योंकि जब आप इसका अभ्यास कर रहे होंगे, तो आप अपने आस-पास के अन्य लोगों से भी दूषित हो जायेंगे। उनकी ऊर्जा, उनके कर्म, आपके साथ उनका संपर्क आपके लिए परेशानी लाएगा और आपको एक उच्च आयाम तक उत्थान की अनुमति नहीं देगा, जब तक कि आप पहले ही एक उच्च आयाम से नहीं जुड़े हों, जैसे कि क्वान यिन विधि के माध्यम से जो मैंने आपको प्रदान की है । यह सही है, उच्च आयामों के लिए सीधा शब्द है। आप धीमी गति से चलते हैं, आप तेजी से चलते हैं - यह आप पर निर्भर है। लेकिन इसका उच्चतर लोक से सीधा संबंध है। आप निश्चित रूप से मुक्ति तक पहुंच जाएंगे - निश्चित रूप से - या इस जीवनकाल में बुद्ध भी बन जाएंगे, यदि आप वास्तव में इतने ऊंचे हैं, इतने शुद्ध हैं, और हजारों युग पहले बिना फल के अभ्यास किया है।

यहां तक ​​कि जानवर भी आध्यात्मिक अभ्यास करते हैं। कुछ सर्प-लोग भी ध्यान करते हैं; वे बहुत अच्छी तरह से, बहुत लगन से अभ्यास करते हैं, और फिर वे मानव बन सकते हैं, या वे थोड़े समय के लिए या हमेशा के लिए खुद को मानव के रूप में प्रकट कर सकते हैं। लेकिन यह अलग है - केवल एक प्रजाति के स्तर से दूसरे प्रजाति के स्तर पर छलांग लगाने के लिए अभ्यास करना - न कि किसी उच्च स्वर्ग में जाना, या मुक्त होना, बुद्ध बनना या भगवान के साथ एक हो जाना - यही वह उच्चतम तरीका है जिसकी आप आकांक्षा कर सकते हैं। क्वान यिन विधि की तरह, आप सीधे उच्चतम संभव आयाम से जुड़े हुए हैं। और आप उस सड़क के किसी भी पड़ाव तक पहुँच सकते हैं। यह आपके कर्म, पिछले जीवन के कर्म, आपके अभ्यास, आपकी ईमानदारी, आपकी पवित्रता और सभी स्वर्गों के आशीर्वाद पर निर्भर करता है जो हमेशा आपकी देखभाल करने की कोशिश कर रहे हैं।

अब, यदि आप अकेले अभ्यास करते हैं, तो आप मास्टर नहीं हैं। यह काफी आसान है। आपको बस अपने घर जाने की लालसा, ईश्वर को जानने की लालसा के साथ मास्टर से दीक्षा प्राप्त करनी है। तब अंत में यह आपके पास होगा, निश्चित रूप से, गारंटीकृत, 100% सच्चा और सुनिश्चित। कोई अन्य विधि, यह उस मास्टर पर भी निर्भर करता है जिसने उच्च स्तर प्राप्त किया है या नहीं। यहां तक ​​कि क्वान यिन पद्धति में भी, अगर कोई आधा-अधूरा या बस थोड़ा सा सीखता है, और सोचता है कि बस इतना ही है, क्योंकि उन्होंने मास्टर के पहले और बाद के आंतरिक कार्यों को नहीं देखा है; और दीक्षा के समय, एक मूक संचार, एक मूक प्रसारण से अधिक कुछ नहीं - तथाकथित शिष्य को अभी भी आंतरिक स्वर्गीय प्रकाश और आंतरिक स्वर्गीय शब्द प्राप्त होगा, या आप इसे ध्वनि कहते हैं, या आप इसे कंपन कहते हैं।

मेरा मतलब है, भौतिक शरीर में भी, आप स्वर्ग देख सकते हैं, आप ईश्वर के वचन, क्षेत्रों के कंपन को सुन सकते हैं, और आप हर दिन अधिक से अधिक प्रबुद्ध महसूस करेंगे और भौतिक क्षेत्र में भी अधिक से अधिक आरामदायक महसूस करेंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि मास्टर आपको धीरे-धीरे आध्यात्मिक शक्ति प्रदान करते हैं जब तक आप बड़े नहीं हो जाते और स्वर्गीय लोकों में सुरक्षित नहीं हो जाते। इसलिए अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए केवल तपस्या पर निर्भर रहने का प्रयास न करें। नहीं, यदि आप क्वान यिन विधि का अभ्यास कर रहे हैं, तो आपको इसकी आवश्यकता नहीं है।

बहुत समय पहले, एक चीनी ज़ेन मास्टर (नैन्यू ह्युएरांग) ने देखा कि उनका शिष्य (माज़ु दाओई) मंदिर में फर्श पर बैठा था और अपने तरीके से ध्यान करने की कोशिश कर रहा था। और उन्होंने उसके सामने ईंटों को चमकाया, और उन्होंने उससे पूछा, "आपको क्या लगता है कि आप क्या कर रहे हो?" उन्होंने कहा, "मैं एक दर्पण बनाने की कोशिश कर रहा हूं।" और उन्होंने कहा, "आप इन ईंटों से दर्पण नहीं बना सकते, चाहे आप इन्हें कितनी भी देर तक पॉलिश करें।" तो उन्होंने (नैन्यू हुआरंग) उससे कहा, "यह वैसा ही है - वहां बैठने से आपको आत्मज्ञान नहीं मिलेगा।" बस वहीं बैठे रहे, नहीं। क्योंकि वह जानता था कि आत्मज्ञान के लिए एक रास्ता है, आत्मज्ञान का मार्ग। आपको उस रास्ते पर चलना होगा, अन्यथा आप वहां नहीं जा पाएंगे जहां आप जाना चाहते हैं। या फिर आपको सही रास्ता मिलने तक कई, कई हजारों साल या कई युग लग जाते हैं। आप बस एक चक्र में, एक भूलभुलैया में इधर-उधर दौड़ते रहते हैं। बाहर के लोगों को यह बताना मुश्किल है, अगर उनके पास अंदर आपके जैसा अनुभव नहीं है। तो मैं वास्तव में, केवल आपको बातें याद दिलाने के लिए आपसे बात कर रही हूँ।

Photo Caption: अप्रत्याशित स्थान पर स्वागत करना!

फोटो डाउनलोड करें   

और देखें
सभी भाग  (2/6)
1
2024-06-13
3326 दृष्टिकोण
2
2024-06-14
2666 दृष्टिकोण
3
2024-06-15
2392 दृष्टिकोण
4
2024-06-16
2136 दृष्टिकोण
5
2024-06-17
2315 दृष्टिकोण
6
2024-06-18
2025 दृष्टिकोण
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-07-18
226 दृष्टिकोण
35:29

उल्लेखनीय समाचार

131 दृष्टिकोण
2024-07-16
131 दृष्टिकोण
2024-07-16
821 दृष्टिकोण
2024-07-16
100 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड