खोज
हिन्दी
शीर्षक
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

सुप्रीम मास्टर चिंग हाई का अत्यावश्यक संदेश सभी धार्मिक और आध्यात्मिक नेताओँ के लिए

विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो

आदरणीय पोप, अत्यधिक सम्मानित पुजारी, पुजारी, भिक्षु, नन विभिन्न धर्मों के, मेरी शुभकामनाएं और विनम्र प्रार्थना आपके कल्याण के लिए भगवान की दया में। हालांकि मेरा समय तंग और कीमती है, जैसा कि मैं अभी भी गहन ध्यान एकांतवास में हूँ विश्व विगन, विश्व शांति के लिए, लेकिन ग्रह और हमारी दुनिया की तत्काल पुकार मुझे ज़ोर देती है। मुझे लगता है मुझे कुछ जरूरी संदेश देना चाहिए आदरणीय पोप और आदरणीयों को। महान आध्यात्मिक नेताओं के रूप में, आपको भी पता होगा तबाही का जो हमारे ग्रह पर घटित हो रही है, सीधे संबंधित है त्वरित जलवायु परिवर्तन से मनुष्यों के क्रूर व्यवहार और क्रूर आदतों के कारण, जिसे बदलना इतना मुश्किल नहीं है एक बार प्रेम का सिद्धांत लागू करने के बाद। कृपया अपने विश्वासियों को यह सत्य बताएं। उन्हें बताएं कि हमें बदलना होगा। क्योंकि हम नहीं कह सकते कि हम भगवान के बच्चे हैं अगर हम भगवान के दूसरे बच्चों की हत्या करते हैं। हम भविष्य के बुद्ध होने का दावा नहीं कर सकते हैं अगर हम भविष्य के दूसरे बुद्धों की सामूहिक हत्या करते हैं चाहे मानव रूप में हो या पशु रूप में। हम नहीं कह सकते हम ईश्वर से प्यार करते हैं और फिर उसकी सृष्टि को निष्ठुरता से नष्ट करते हैं। और अब हम उसके ग्रह को नष्ट कर रहें हैं। कृपया इसे फिर से सिखायें और अपने भरोसेमंद अनुयायियों को जो आपको देखते हैं, पोप को और आदरणीय को करुणा और संत प्रेम के प्रतीक के रूप में। ईश्वर के प्रेम में, धन्यवाद।

आदरणीय पोप, अत्यधिक सम्मानित पुजारी, पुजारी, भिक्षु, नन विभिन्न धर्मों के, मेरी शुभकामनाएं और विनम्र प्रार्थना आपके कल्याण के लिए भगवान की दया में। हालांकि मेरा समय तंग और कीमती है, जैसा कि मैं अभी भी गहन ध्यान एकांतवास में हूँ विश्व विगन, विश्व शांति के लिए, लेकिन ग्रह और हमारी दुनिया की तत्काल पुकार मुझे ज़ोर देती है। मुझे लगता है मुझे कुछ जरूरी संदेश देना चाहिए आदरणीय पोप और आदरणीयों को। खैर, अगर हमारे घर में आग लगी है, हम यह नहीं कह सकते: “मेरे पास समय नहीं है इसका ख्याल रखने के लिए!” हमारे ग्रह घर में आग लगी है !!! यह पत्र वैसे भी उसी लक्ष्य के लिए कार्य करता है। इसे पोस्ट से भेजा जाना था, लेकिन मैं इसे पढ़ूंगी। यह तीव्र होता है। आपातकाल के समय में, बहुत अधिक नौकरशाही मदद नहीं करती है।

आदरणीय पोप और श्रद्धेय ... हालांकि धर्म विविध लगता है, लेकिन हम सभी एक ईश्वर की सेवा करते हैं, मुझे विश्वास है। हम बहुत आभारी हैं, मैं बहुत आभारी हूँ, नेक, समर्पित कार्य के लिए जो आदरणीय पोप और सभी आदरणीय वर्षों से कर रहे हैं, लोगों को एकजुट करना सर्वशक्तिमान का प्यार और करुणा का संदेश मानव और सभी सृष्टि के बीच फैलाकर। धन्यवाद। भगवान हमेशा आपके साथ हो।

महान आध्यात्मिक नेताओं के रूप में, आपको भी पता होगा तबाही का जो हमारे ग्रह पर घटित हो रही है, सीधे संबंधित है त्वरित जलवायु परिवर्तन से मनुष्यों के क्रूर व्यवहार और क्रूर आदतों के कारण, जिसे बदलना इतना मुश्किल नहीं है एक बार प्रेम का सिद्धांत लागू करने के बाद। कृपया अपने विश्वासियों को यह सत्य बताएं। कृपया उन्हें बताते रहें, कृपया उन्हें याद दिलाते रहें। मुझे पता है आपने किया है, लेकिन हम और कर सकते थे। धन्यवाद। हमें बस बदलना होगा। उन्हें बताएं कि हमें बदलना होगा। हमें बदलना होगा अगर हम दावा करना चाहते हैं कि हम इंसान हैं, कि हम भविष्य के बुद्ध हैं, कि हम भगवान की संतान हैं! क्योंकि हम नहीं कह सकते कि हम भगवान के बच्चे हैं अगर हम भगवान के दूसरे बच्चों की हत्या करते हैं। हम भविष्य के बुद्ध होने का दावा नहीं कर सकते हैं अगर हम भविष्य के दूसरे बुद्धों की सामूहिक हत्या करते हैं चाहे मानव रूप में हो या पशु रूप में।

जैसे हमने बौद्ध सूत्र पढ़े हैं, हम जानते हैं कि शाक्यमुनि बुद्ध भी बार-बार अवतरित हुए असंख्य बार जानवरों के रूप में। और हम जानते हैं, बाइबल में, भगवान कहते हैं कि उन्होंने सभी प्रकार की सब्जियां बनाई जानवरों के खाने के लिए और उन्होंने कई चीजें बनाईं हमारे लिए भी। अगर जानवरों का ईश्वर के लिए कोई मायने नहीं है, भगवान ने उनके खाने के लिए चीजें नहीं बनायी होती। जैसे भगवान हमें प्यार करते हैं, इसलिए भगवान ने चीजें बनाईं हमारे उपभोग करने के लिए। बाइबल में यह कहता है, भगवान ने फल और सब्जियां खेत में बनायी और कि वे हमारे भोजन होंगे। (पवित्र बाइबल, जेनेसिस 1:29)

हम नहीं कह सकते हम ईश्वर से प्यार करते हैं और फिर उसकी सृष्टि को निष्ठुरता से नष्ट करते हैं। और अब हम उसके ग्रह को नष्ट कर रहें हैं। लेकिन 74 बिलियन से अधिक भूमि जानवरों का अकेले निर्दयता से नरसंहार किया जाता है मानव उपभोग के लिए हर साल, पशुधन पालने वाला उद्योग और इसके उपोत्पाद 87% मानव के कारण ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार हैं। ना केवल हम ग्रह को नष्ट कर रहे हैं जो हम उपभोग करते हैं उससे, बल्कि अकथनीय अत्याचार मासूम जानवरों के साथ हो रहे हैं जिन्होंने कुछ ग़लत नहीं किया है। इसके अलावा, भगवान ने जानवरों को हमारे मित्र और सहायक के लिए बनाया, हत्या और खाने के लिए नहीं ऐसे बर्बर तरीके से! यह 21 वीं सदी है, भगवान के लिए।

पवित्र बाइबल में, जेओबी 12: 7-8, यह कहा गया है: “लेकिन जानवरों से पूछो, और वे तुम्हें सिखाएंगे, या आकाश में पक्षियों से पूछें, और वे आपको बताएंगे। या पृथ्वी से बात करो, और यह आपको सिखाएगी, या समुद्र में मछलियों को आपको सूचित करने दो।” तो, जानवर, धरती जिसे ईश्वर ने बनाया बुद्धिमान, आदरणीय जीव हैं, जिनकी उपस्थिति मनुष्यों के लिए एक महान आशीर्वाद है।

लेकिन क्या अक्षम्य कार्य ईश्वर के नियम के विरुद्ध हम कर रहे हैं हमारे स्वर्गीय पिता की सृष्टि के साथ? हम ईश्वर की सृष्टि को नष्ट कर रहे हैं भूमि से लेकर समुद्र तक! घिनौनी क्रूरता भगवान के निर्दोष जीव पर प्रयोगशाला परीक्षणों में, पशुधन पालन में, मछली पकड़ने, अंडा उद्योग में, दूध, फर, सौंदर्य प्रसाधन, आदि,... वे उद्योग निर्विवाद रूप से भयावह और अमानवीय हैं। यह निर्दोष, रक्षाहीन, कोमल जानवरों, हमारे सह-निवासियों, भगवान के जीव को, कैद और प्रताड़ित करते हैं, कई तरीकों से कष्ट देना रक्षा के किसी भी अवसर के बिना, या मदद के लिए पुकार के बिना! भले ही वे मदद के लिए पुकारते हैं, गाय माँ, माँ सूअर रो रही थीं जब उनके बच्चों को ले जाया गया, पीटा गया, मारा, और हत्या कर दी, कोई परवाह नहीं करेगा। पांच साल का बच्चा भी उनकी भावना को समझेगा। यह कई नर्क से भी बदतर है! कल्पना करें अगर वे हमारे बच्चे, हमारे रिश्तेदार, हमारे दोस्त या खुद हैं! वे जीवित प्राणी हैं भावनाओं के साथ, विचारों, भावनाओं के साथ। हममें से कोई जिसने पालतू जानवर के साथ समय बिताया है , जानता है कि उनके पास उनका अपना व्यक्तित्व है, वे प्यार, देखभाल, दर्द और दुख, खुशी और उत्साह अनुभव करते हैं। और वफादारी; पूर्ण निष्ठा। और कोई अंतर नहीं है एक पालतू जानवर और अन्य जानवर के बीच जो अपना सारा जीवन सीमित है भयावह सांद्रता में, तंग पशु कारखानों के बक्से या फंसे हुए स्थानों पर, बारिश या धूप, कोई आश्रय नहीं, सभी प्रकार के मौसम को सहते हैं, कोई भी दुष्ट अकल्पनीय स्थिति , और जिनका जीवन हिंसक रूप से बूचड़खानों में खत्म हो जाता है! मनुष्यों के उपभोग के लिए। अगर हम अब भी सोचते हैं कि हम इस मामले में मानवीय हैं।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया निम्नलिखित अनुशंसित वृत्तचित्र भी देखें, जैसे : पुरस्कार विजेता “काउज़पिरेसी,” “अर्थलिंग,” “डोमिनियन,” और पुरस्कार-नामांकित “क्या स्वास्थ्य,” आदि, आदि... इसके अलावा, मुफ़्त डाउनलोड करें “संकट से शांति तक” Crisis2Peace.org

सभी प्रमुख धर्मों में, समानताएं हैं, जैसे सिद्धांत: “दूसरों के साथ वैसा ही व्यवहार करें जैसा आप चाहते हैं वे आपके साथ करें” और “आप नहीं मारेंगे।” “अहिंसा” अर्थात अहिंसा, आदि… स्पष्टतः, किसी भी प्रकार के जानवर, संवेदनशील प्राणी को खाना बिल्कुल मना है सभी मुख्य विश्वास प्रणालियों और पवित्र शिक्षाओँ में। फिर भी भगवान के कई बच्चे, या धार्मिक विश्वासी, इन बुनियादी दिशानिर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं, क्योंकि हम ग़लत धारणा द्वारा भटक गए हैं कि हमें जानवरों का मांस, मछली, अंडे और दूध खाने की जरूरत है स्वस्थ होने के लिए। विपरीत सत्य है - यह साबित हो गया है वैज्ञानिक और नैदानिक ​​अध्ययन में जो जानवरों का उपभोग मनुष्यों में असंख्य रोगों का कारण है, जैसे कि कैंसर, सभी प्रकार के कैंसर और हृदय रोग, इस प्रकार जल्दी मृत्यु, और उससे पहले अंतहीन दुःख, कष्ट। ना सिर्फ मरीजों को बल्कि उनके रिश्तेदारों, दोस्तों, परिवार के सदस्यों और प्रियजन को।

अब जागने का समय है और इन शारीरिक और आध्यात्मिक अनैतिक, अस्वस्थ, क्रूर आदतें, और शामिल अत्यंत अत्याचार बदलें। हमारा मूल आहार, ईडन गार्डन के अनुसार, विगन आहार है। यह बढ़ावा देता है दोनों शारीरिक और मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ को। हम खुश रह सकते हैं, स्वस्थ जीवन, विशुद्ध रूप से संपन्न पौधों के खाद्य पदार्थों पर। अभिनेता, अभिनेत्री एथलीट, खिलाड़ी, मार्शल आर्ट चैंपियन, मेडिकल चिकित्सक, वैज्ञानिक, नोबेल पुरस्कार विजेताओं, आदि… चमकते हुए प्रमाण हैं स्वस्थ पौधा-आधारित आहार के। यह पालन भी करता है “आप नहीं मारेंगे,” या “अहिंसा,” का अर्थ हिंसा नहीं है, जबकि जानवरों को खाना भगवान की इस आज्ञा के खिलाफ है। भले ही हम नहीं हैं जो हत्या कर रहे हैं, हम दूसरों को हमारे लिए मारने का कारण हैं। जानवर समान रूप से पीड़ित होते और मरते हैं, हमारे भोजन के लिए, जिसे हम बदल सकते हैं किसी भी अन्य संयंत्र आधारित भोजन से। और आजकल यह बहुत आसान है। इस प्रकार हमारा जीव, जानवरों की हत्या के कारण, निर्दोषों के खून से सराबोर है हमारे हाथों पर। कृपया इसे फिर से सिखायें और अपने भरोसेमंद अनुयायियों को जो आपको देखते हैं, पोप को और आदरणीय को करुणा और संत प्रेम के प्रतीक के रूप में। तो वे आपको सुनेंगे! हम शैतान या माया को, शैतान या नकारात्मक बल को हमें भटकाते रहने नहीं दे सकते, ईश्वर की इच्छा के विरुद्ध, और हमारे सहज ज्ञान और दयालु प्रकृति के खिलाफ।

इस पत्र को जारी रखने से पहले, मैं कुछ उदाहरण पढ़ूंगी मनाही के जानवरों का मांस खाने के मुख्य विश्व धर्मों में। यदि कोई और भी सुन रहा है। कोई और जो भूल गया है धार्मिक आज्ञाओं को अपने स्वयं के धर्म के। तो पहले मैं इसे पढ़ूंगी वर्णमाला के क्रम में।

बहाई आस्था

“पशुओं का मांस खाने और ना खाने के बारे में, आपका सत्य जानना जरूरी है, कि सृष्टि की शुरूआत में , परमात्मा ने प्रत्येक जीव का भोजन निश्चित कर दिया था, और उस नियम के विरुध भोजन करना गलत है।” ~स्वास्थ और उपचार से संबंधित बहाई की शिक्षाओं में से कुछ अंश।

बौद्ध धर्म

“...सभी मांस भक्षक सजीव प्राणियों में अपने स्वयं के रिश्तेदारों को भक्षण करते हैं।” ~लंकावतार सूत्र (त्रिपिटक संख्या ६७१)

“बच्चे के जन्म के बाद भी इस बात का ध्यान दिया जाता है माँ को मांसयुक्त स्वादिष्ट भोजन के खिलाने लिए किसी पशु का बध न किया जाय और अनेक रिश्तेदारों को शराब पीने या मांस खाने के लिए एकत्र न किया जाय जन्म जैसे जटिल समय पर वहां बुरे राक्षस होते हैं, आश्रमवासी होते हैं और प्रेत होते हैं जो सुगन्धित रक्त पीना चाहते हैं, पशु की बलि चढ़ा कर उनका भोजन के रूप मे प्रयोग करने के लिए। वे श्राप के दबाव से स्वयं को बचा लेते हैं, जो मां और बच्चे दोनो के लिए मजबूती प्रदान करते हैं।” ~क्रिस्टिगर्भा सूत्र अध्याय ८

दूसरा वाला: “किसी की मौत के तुरन्त बाद के दिनों में सावधान रहें, ना हत्या या नष्ट करें या देवताओं और देत्यों की पूजा कर या भेंट चड़ा कर पाप अपने सर लेना... क्योंकि इस तरह से की गयी हत्या या कत्ल या पूजा करने या बलि देने से मरने वाले को रत्ति भर का भी लाभ नहीं होगा, अपितु इससे उसके ऊपर और अधिक बुरे कर्म चढ़ जायेंगे, पिछले कर्मों के अलावा, जो पहले से कहीं अधिक गहरे और दुखदायी होंगे। ...जिससे उसका अच्छे स्तर में दोबारा जन्म लेने में विलम्ब होगा” या उनको जल्द ही नरक भेज देगा। कर्म का अर्थ है फल मिलना। “जैसा आप बोएँगे, वैसा आप पाएँगे।” बाइबल में, यह बता है। “जैसा आप बोएँगे, वैसा आप पाएँगे।” यह अर्थ है कर्म का संस्कृत में।

दूसरा वाला: “अगर भिक्षु रेशम से बने वस्त्र,” वह रेशम जो रेशम के कीड़ों से आता है, स्थानीय चमड़े “और फर के जूते नहीं पहनते हैं, और दूध, क्रीम और मक्खन के उपभोग से बचते हैं, वे वास्तव में सांसार से मुक्त हो जाएंगे; यदि कोई आदमी अपने शरीर और दिमाग को (नियंत्रित) कर सकता है और इस तरह से पशु मांस खाने व पशु उत्पादों को पहनने से बचता है, मैं कहता हूं वह वास्तव में मुक्त हो जाएगा।” भिक्षु का अर्थ है सन्यासी ~सुरंगमा सूत्र

दूसरा वाला: “अगर मेरा कोई भी शिष्य ईमानदारी से उस पर विचार नहीं करते और अभी भी मांस खाता है, हमें यह जानना चाहिए वह कैंडेला के वंश का है। वह मेरा शिष्य नहीं है और मैं उसका शिक्षक नहीं हूं। इसलिए, महामति, अगर कोई मेरा रिश्तेदार होना चाहता है, उसने कोई भी मांस नहीं खाना चाहिए।” कैंडेला का अर्थ है हत्यारा। ~ लंकावतार सूत्र

काओ दाय-वाद

“सर्वाधिक महत्वपूर्ण बात है हत्या करने को रोकना... क्योंकि पशुओं में भी आत्माएं होती हैं और मानवों जैसी समझ होती हैं। क्यांकि अगर हम उनकी हत्या करते और उन्हें खाते हैं, तो हम उनके रक्त के ऋणी हैं।” ~संतों की शिक्षाएं, दस नियम रखने के बारे में - मारने से बचो, सूत्र २

ईसाई धर्म

“पेट के लिए मांस और मांस के लिए पेटः किन्तु ईश्वर दोनों का विनाश कर देगा इसका और उनका।” ~पहला कोरींथीयन ६:१३, पवित्र बाईबिल

एक और: “और जब अभी मांस उसके दांतों के बीच में ही था, (पहले) उसे चबा रहा था, लोगों के प्रति परमात्मा का क्रोध बढ़ने लगा, और परमात्मा ने लोगों पर भयानक आपदा डाल दी।” ~संख्या ११:३३ पवित्र बाईबिल

कनफ्यूशियसवाद

“सभी व्यक्तियों में मन होता है जो दूसरों के कष्टों को देखना सहन नही का सकता। अतः सर्वोच्च प्राणी, जानबर जो उन्हें जीवित दिखाई देते हैं वह उन्हें मरा हुआ देखना सहन नही कर सकता; उनके मरने की चीखें सुनना, वह उनका मांस खाना पसंद नही करता।” ~मेनसिअस लीऐंग का राजा हुई, अध्याय ४

दाओ दुआ वाद

“शांति के लिए मानवता को पहले पशुओं के साथ शांति करनी होगी; खुद को खिलाने के लिए उनकी हत्या नहीं करें, फिर लोगों के बीच शांति आएगी।” ~नाम कुओक फ़ैट टेम्पल

एस्सीन

“मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि कुर्बानी और जानबरों का रक्त, यदि ये प्रस्तावित करना और मांस और रक्त खाना छोड़ दे, ईश्वर के क्रोध को आप नही रोक पाएंगे।” ~गोसपेल ऑफ दि होली ट्वेल्व

हिन्दूधर्म

“जब आप मरे हुए जानवर का जीवन वापस नहीं ला सकते तुम उनको मारने के प्रति जबावदेह हो इसलिए तुम नर्क जा रहे हो तुम्हारी मुक्ति के लिए कोई रास्ता नहीं है।” ~अदि लीला, अध्याय १७, सूत्र १५९-१६५

दूसरा: “वह जो अपने मांस में वृद्धि करने की इच्छा से दूसरे जीवों के मांस का भक्षण करता है, दुर्दशा में जीते हैं चाहे वह किसी भी वर्ग में जन्म ले।” ~महाभारत, अनु ११५.४७.एफ एस, पन्ना ९०

दूसरा: “हे महात्मा राजन! अगर दूसरों को दुःख दे कर चीज़ें प्राप्त हुई, को प्रयोग किया जाता है पूजा के कामों में, तब वे उलटा असर देंगी फल देने के समय।” ~देवी भागवत चोथी पुस्तक, अध्याय ४, सूत्र ३२

इस्लाम

“अल्लाह किसी के साथ दया नहीं करेगा, सिबाय उनके जो दूसरे जीवों पर दया करता है।” - पेगंबर मुहम्मद (उन्हें शांति मिले) हदीथ

दूसरा: “अपने पेट को पशुओं का शमशान ना बनने दें।” ~पेगंबर मुहम्मद (उन्हें शांति मिले) हदीथ

जैन धर्म

“एक सच्चे संत को ऐसा भोजन और पेय स्वीकार नही करना चाहिए जो विषेश रूप से उसके लिए तैयार किया गया हो जिसमें सजीव प्राणियों के उत्पाद सम्मिलित हों।” ~सूत्रकृतंगा

जूडा धर्म

“और कोई भी व्यक्ति हो जिसका घर ईजराइल में है, या कोई अजनबी है जिसका घर आपके मध्य हो, जो किसी भी रूप में रक्त भक्षण करता हो; मैं यहां तक कि उन आत्मा की ओर से अपना मुंह फेर लूंगा जो रक्त भक्षण करता है, और स्वयं को अपने लोगों से अलग कर लेगा।” - लेविटिकुस १७:१०, पवित्र बाइबल खून: अर्थ है “माँस,” जिसमें खून है

सिख धर्म

“वे जीव जो मरिजुआना, मांस और शराब का सेवन करते हैं - इसका कोई अर्थ नही कि तीर्थयात्राएं, व्रत और त्योहारों का वे अनुसरण करें, वे सभी नरक में जाएंगे।” ~गुरु ग्रन्थ साहिब, पृष्ट १३७७

ताओवाद

“पर्वतों पर जाल में पक्षियों को पकडने न जाए, न ही जल में मछलियां और जलचरों को पकडने हेतु विष मिलाएं। बैल को मत काटिए।” - ट्रेक्ट ऑफ दि क्वाइट वे

तिब्बत बौद्धवाद

“पशुओं को मार कर देवताओं को मांस का भोग लगाना वैसा ही है, जैसे माँ को अपने ही बच्चे का भोग लगाना। यह भयानक पाप है।” ~अनुयायी का परम मार्ग: गुरुओं के नियम, १३ महा पाप महा गुरु गंपोप

जोराष्ट्र्वाद

“वे पौधे, मैं, अहूरा माजदा (अर्थ परमात्मा), पृथ्वी पर बरसते हैं, भोजन लाने के लिए आस्था के लिए और लाभदायक गाय के चारे के लिए।” ~एवेस्टा

आदि, और आदि। निश्चित रूप से, और भी हैं। ये सिर्फ़ कुछ उदाहरण हैं। अधिक जानकारी के लिए, कृपया देखें SupremeMasterTV.com

तो कोई किसी भी धर्म से सम्बंधित है, सभी को सबसे महत्वपूर्ण नियम रखना चाहिए: “आप नहीं मारेंगे।” अहिंसा।

अब समय है मानवता के वापस जाने के लिए जैसे हमारे निर्माता ने मूल रूप से इरादा था अपने सभी बच्चों के रहने के लिए- मर्यादा में, सम्मान शांति, प्रेम में, और अच्छे प्रबंधक होने के लिए हमारे सांसारिक निवास पर। कृपया अपने वफादार को याद दिलाएं यह सब और अधिक। मुझे पता है आपने किया है, लेकिन कृपया बार-बार दोहराएं, और उन्हें समझाएं यह महत्वपूर्ण है उनकी अपनी आत्मा के लिए साथ ही हमारे ग्रह के लिए, हमारी दुनिया के लिए। यह सभी जानवरों के कष्ट को अंत करने का समय है, जैसा कि उनका अधिकार है शांति, स्वतंत्रता और गरिमा में रहने के लिए प्रकृति में अपने प्रियजनों के साथ, जैसे भगवान ने मूल रूप से इरादा किया।

कृपया भगवान की रचना बचाने में मदद करें। कृपया मासूमों की पीड़ा समाप्त करने में मदद करें। हम एक दूसरे के साथ युद्ध करते हैं, और हम जानवरों के साथ युद्ध करते हैं। ये सही नहीं हैं। ये कार्य सही नहीं हैं। यह कार्य ईश्वर की आज्ञा के खिलाफ हैं और होंगे। कृपया अपने वफादार को याद दिलाएं। मुझे भरोसा है आदरणीय पोप और सभी आपके आदरणीयों के ज्ञान पर इस महान परिवर्तन के नेतृत्व के लिए! हमें बदलना होगा। मुझे विश्वास है कि पूज्यनीय पोप और आपके आदरणीय सभी आपके आदरणीय इस महान परिवर्तन का नेतृत्व करने के लिए। विगन जीवनशैली को बढ़ावा देने के लिए, जिसमें शामिल है प्रेम, करुणा और सम्मान सभी प्राणियों के लिए और परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करना। कृपया इसे बढ़ावा दें अपने सभी पादरियों, भिक्षुओं, भिक्षुणीयों और सभी वफादार के लिए। आपको सौंपे हुए = पद की शक्ति एक महत्वपूर्ण, प्रभावी प्रोत्साहन प्रदान करेगी विश्व के नागरिकों के लिए अपने नेतृत्व का पालन करने के लिए। कृपया “हमारे समय के नायक बनें,” इन सभी निर्दोषों जीवों को, हमारे साथी सह-निवासियों जिन्हें जानवर बुलाया जाता है बचाएँ, जिन्होंने कभी कोई नुकसान नहीं किया। जो एक आशीर्वाद हैं हमारी दुनिया के लिए। जो अद्भुत, प्रेममय हैं और इंसानों के प्रति साथ ही उनके लिए अपने सह-निवासी जानवरों के प्रति दयालु हैं। हमारे सुप्रीम मास्टर टेलीविजन में, हमारे पास इसके पर्याप्त उदाहरण हैं, जानवरों की प्रेममयी करुणा और दयालुता दर्ज की गई दुनिया भर से। कृपया अपने वफादार को कहें उन्हें देखने के लिए। हम स्वर्ग की उम्मीद नहीं कर सकते जब हम नर्क बनाते हैं या भगवान की प्रिय रचना के नारकीय, नरसंहार को अनदेखा करते हैं, इस तरह की सामूहिक हत्या में, निर्दयता से। हम स्वर्ग की उदारता की उम्मीद नहीं कर सकते अगर हम ईश्वर की रचना को नष्ट करते हैं और भगवान के अन्य बच्चों अर्थात जानवरों के लिए, कोई दया नहीं रखते।

कृपया उनकी भयावह दुर्दशा को नजरअंदाज मत करें। भगवान उनकी दैनिक पीड़ा जानते हैं। आकाश और पृथ्वी उनका दर्द देखते हैं। उनकी पुकार ने सभी स्वर्ग और कई प्राणियों के दिलों को हिला दिया है। कृपया उनसे बात करें, कृपया उनकी मदद करें, क्योंकि यह हमारी दुनिया को भी मदद करता है जलवायु त्वरण के मद्देनजर ठीक होने के लिए। आपका नेक काम स्वर्ग द्वारा हमेशा के लिए दर्ज किया जाएगा और हमारे ग्रह पर शांत वातावरण के लिए, विश्व शांति के लिए, और पर्यावरण के स्थिरीकरण के लिए योगदान करेगा, जो पृथ्वी पर सभी जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। सभी जीवन भी आपके दयालु कार्य पर निर्भर करते हैं।

दुनिया के नागरिक, जानवर और हमारे बच्चे हमेशा याद रखेंगे आपका वीर, करुणामय कर्म और अपने खुश, समृद्धि , स्वस्थ लंबे जीवन की प्रार्थना करेंगे = ईश्वर के नाम पर में। सदैव दयालु स्वर्ग खुश होगे। सर्व- प्रेममयी ईश्वर हमारे पापों को क्षमा करेंगे और हमारे जीवन को लंबा करेंगे, जैसा हम क्षमा करते और लंबा करते हैं हमारे सह-निवासियों का जीवन, प्रेममयी, दयालु जानवरों का।

ईश्वर आपका भला करे, पूज्यनिय पोप और आपके सभी श्रद्धेय, और आपके पवित्र मिशन को बहुतायत से आशीर्वाद दे, और ईश्वर हमारी दुनिया को आशीर्वाद दे। तथास्तु। धन्यवाद। धन्यवाद, और धन्यवाद। ईश्वर के प्रेम में, धन्यवाद।

और देखें
… धर्मों में  24 / 25
2
2021-12-08
4524 दृष्टिकोण
5
2020-11-11
28589 दृष्टिकोण
9
2019-10-30
7913 दृष्टिकोण
11
4:23

Prohibition on Alcohol in Religion

6264 दृष्टिकोण
2019-11-06
6264 दृष्टिकोण
12
2019-04-22
7292 दृष्टिकोण
13
2:46

Prohibition on Drugs and Intoxicants in Religion

5466 दृष्टिकोण
2018-07-27
5466 दृष्टिकोण
15
2020-06-04
10114 दृष्टिकोण
17
2022-01-07
3235 दृष्टिकोण
20
2017-11-30
6171 दृष्टिकोण
23
19:58

Spiritual Unity - In Honor of World Religion Day

4140 दृष्टिकोण
2018-01-21
4140 दृष्टिकोण
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-04-17
147 दृष्टिकोण
32:50
2024-04-16
85 दृष्टिकोण
2024-04-16
878 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड