खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

शाकाहार और तिब्बती बौद्ध धर्म - 'यदि आप मांस खाते हैं आप काग्यूपा नहीं हैं' करमापा, ओग्येन ट्रिनले दोर्जे ( शाकाहारी ) द्वारा, दो भाग का भाग 1

2021-06-16
भाषा:English
विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो
परम पावन, १७वें करमापा, ओग्येन ट्रिनले दोर्जे, तिब्बती बौद्ध धर्म के ९०० साल पुराने कर्म काग्यू वंश के आध्यात्मिक प्रमुख हैं। परम पावन ने आधुनिक रंगमंच के साथ पारंपरिक तिब्बती ओपेरा को मिलाकर कई नाटक लिखे और निर्मित किए। महान तिब्बती योगी मिलारेपा के जीवन के बारे में उन्होंने जो पहला नाटक लिखा था, उन्होंने 2010 में बोधगया, भारत में अपने पहले प्रदर्शन में लगभग 20,000 दर्शकों को आकर्षित किया था।

तिब्बत में एक खानाबदोश परिवार में एक मांसाहारी के रूप में पले-बढ़े होने के बावजूद, परम पावन ने बाद में मांस को त्याग दिया और दृढ़ता से दूसरों को मांस खरीदना, बनाना और खाना बंद करने के लिए प्रोत्साहित किया। 17वें करमापा करुणा, प्रेम-कृपा, महिलाओं के अधिकार, वीगन और धरती माता की देखभाल को सार्वभौमिक मूल्यों के रूप में दृढ़ता से मानते हैं।

२४वें वार्षिक महान काग्यू मोनलाम, बोधगया, भारत में ३ जनवरी २००७ को दिए गए वीगनवाद पर अपनी एक व्याख्यान में, परम पावन ने अपने सभी अनुयायियों को शाकाहार का पालन करने का निर्देश दिया: "कोई भी मठ जो कामत्संग काग्यू का है, उस मठ की रसोई में मांस से कोई भोजन नहीं बनाया जा सकता है और न ही बनाना चाहिए। और अगर आप मांस लाते हैं और मठ की रसोई में पकाते हैं, तो इसका मतलब है कि आप मुझे अपने शिक्षक के रूप में नहीं ले रहे हैं, आप कर्म काग्यू से संबंधित नहीं हैं। और इसके बारे में चर्चा करने के लिए कुछ भी नहीं है। बात ही समाप्त हो जाएगा। यह बहुत महत्वपूर्ण है।"

अब हम आपके साथ परम पावन के वीगन और पूर्व के कर्मपाओं पर दिए गए प्रवचनों के अंश साँझा करेंगे जो सख्त शाकाहार थे। "कुछ साल पहले काग्यू मोनलाम्स में से एक में, मैंने शाकाहार के विषय के बारे में बात की, मांस खाना छोड़ दिया। आप कह सकते हैं कि यह एक घोषणा थी, लेकिन यह वास्तव में एक सुझाव देने जैसा था। तब से, कई साल बीत चुके हैं, और वर्षों से, मैंने लोगों को तरह-तरह की बातें करते सुना है। कुछ लोगों ने यह भी कहा की, 'ओह, ओग्येन ट्रिनले दोर्जे कहते हैं कि अगर आप मांस खाना नहीं छोड़ते हैं तो आप काग्यूपा नहीं हैं। अब, यह वास्तव में मैं नहीं था जिसने ऐसा कहा था। यह 8वें करमापा मिक्यो दोर्जे थे जिन्होंने ऐसा कहा था। तो, यह मेरा विचार नहीं था, और ऐसा नहीं है कि मैंने कहा कि आप मांस छोड़ दें अन्यथा आप काग्यूपा नहीं हैं।"

"इसी तरह, यदि आप विनय पर आठवें करमापा की टिप्पणी पढ़ते हैं, तो सूर्य की कक्ष जो स्पष्ट रूप से दुनिया को रोशन करती है, इसमें कहा गया है कि वर्ष के अंत में गूटर और महाकाल अनुष्ठान करते समय, उन प्रसाद में, मांस को शामिल नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने न केवल महान शिविर में मांस खाने पर प्रतिबंध लगाए, बल्कि उन्होंने पूरे तिब्बत में तिब्बतियों के लिए शाकाहार को बढ़ावा दिया। ८वें करमापा के वर्क्स के सूचकांक कलेक्टेड वर्क्स में, तिब्बतियों को यह भी सलाह दी गई है कि निस्सहाय जानवरों का मांस खाना अनुचित क्यों है। इस प्रकार, हम देख सकते हैं कि ८वें करमापा ने न केवल महान शिविर में मांस खाने की मनाही की बल्कि पूरे तिब्बत में शाकाहार को प्रोत्साहित किया।"
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-06-25
163 दृष्टिकोण
32:53
2024-06-24
56 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड