खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

धर्म में क्वान यिन के संकेत भीतरी स्वर्गीय ध्वनि पर चिंतन-3 का भाग 1

विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो

बहाई धर्म / बौद्ध धर्म / तिब्बती बौद्ध धर्म / ईसाई धर्म / नोस्टिसिज़म / असीन

बहाई धर्म

"हे मिट्टी के पुत्र! अपनी आंखें बंद करो, ताकि आप मेरी सुंदरता निहार सको; अपने कान बंद करो, ताकि आप मेरी आवाज़ का मधुर संगीत सुन सको; स्वयं को सभी ज्ञान से खाली करो, ताकि आप मेरे ज्ञान को ग्रहण कर सकें; और स्वयं को धन से परिष्कृत करो, ताकि आप मेरे अनन्त धन के महासागर से एक स्थायी हिस्सा प्राप्त कर सकें।” ~ गुप्त शब्द प्रभु बहाउल्लाह (शाकाहारी) द्वारा

“हमें भगवान का धन्यवाद करना चाहिए कि उसने हमारे लिए दोनों बनाया है भौतिक आशीर्वाद और आध्यात्मिक उपहार।[...] उन्होंने बाहरी कान बनाए हैं ध्वनि की धुनों का आनंद लेने के लिए, और आंतरिक सुनवाई जिससे हम हमारे निर्माता की आवाज सुन सकते हैं।" ~ सर्वलौकिक शांति का प्रचार अब्दुल-बहा (शाकाहारी) द्वारा

बौद्ध धर्म

"आप में से जिन्हें अधिक सीखना है, जो परिस्थिति द्वारा प्रबुद्ध हैं, और जो ध्वनि सुनने वाले हैं अब आपके मं को घूमा दिया है परम बोधि के प्राप्ति के लिए, अद्वितीय, अद्भुत आत्मज्ञान।” ~ सुरंगामा सूत्र

“मैं अब विश्व सम्मानित को समर्पण करता हूं कि इस दुनिया में सभी बुद्ध सबसे उपयुक्त विधि सिखाने के लिए प्रकट होते हैं जिसमें व्यापक ध्वनि का उपयोग शामिल है। समाधि की स्थिति सुनने के माध्यम से प्राप्त हो सकती है। [...] आनंदा और आप सभी जो यहाँ सुनते हैं अपने सुनने की शक्ति को अन्दर की ओर मोड़ें अपनी स्वयं की प्रकृति को सुनने के लिए जो अकेले ही परम बोधि प्राप्त करती है। इसी प्रकार आत्मज्ञान जीता जाता है। जितने गंगा में रेत के कण हैं उतने बुद्धों ने निर्वाण के इस एक द्वार में प्रवेश किया है। सभी अतीत तथागतों ने इस विधि को प्राप्त किया है। सभी बोधिसत्व अब इस पूर्णता में प्रवेश करते हैं। सभी जो भविष्य में अभ्यास करते हैं इस धर्म पर भरोसा करना चाहिए।”

समाधि का अर्थ है गहरी ध्यान अवस्था। निर्वाण का अर्थ है सबसे ऊंचा स्वर्ग। तथागत का अर्थ है बुद्ध। बोधिसत्व का अर्थ है आध्यात्मिक अभ्यासी। धर्म का अर्थ है सच्ची शिक्षा। ~ सुरंगामा सूत्र

तिब्बती बौद्ध धर्म

"[समारोह के दौरान] मिलारेपा ने फूलदान से कहा, 'मैं अब बहुत बूढ़ा हो गया हूँ, कृपया उन्हें स्वयं दीक्षित करें।' उसके बाद, फूलदान आकाश में उड़ा, और सभी शिष्यों को एक एक करके दीक्षा दी। इस दौरान, [उन सभी ने] आकाश में स्वर्गीय संगीत सुना और एक खुशबू अनुभव की जिसे उन्होंने पहले कभी नहीं सूंघा था; इसके अलावा, उन्होंने आकाश से गिरते फूलों को देखा, और कई अन्य चमत्कारिक, शुभ संकेत देखे। सभी शिष्यों ने दीक्षा के ज्ञानी अर्थ को पूर्ण रूप से समझा।" ~ मिलारेपा (शाकाहारी) के एक लाख गीत

ईसाई धर्म

"शुरुआत में शब्द था, और शब्द परमेश्वर के साथ था, और शब्द परमेश्वर था।” ~ पवित्र बाइबल, जॉन 1:1

“मोक्ष का हेलमेट और आत्मा की तलवार ले , जो परमेश्वर का शब्द है।” ~ पवित्र बाइबल, इफिसियन 6:17

“और मैंने स्वर्ग से एक ध्वनि सुनी उमड़ते पानी की गर्जन की तरह और बिजली की जोर की गड़गड़ाहट की तरह। ध्वनि जो मैंने सुनी वैसे थी जैसे वीणा बजाने वाले अपने वीणा बजा रहे हों।” ~ पवित्र बाइबल, प्रकटीकरण 14: 2

नोस्टिसिज़म

“मैं आवाज हूं जिसकी ध्वनि कई गुना और शब्द जिसकी उपस्थिति बहुल है। मैं ध्वनि का नाम हूं और नाम की ध्वनि हूँ।” ~ नाग हम्दी , कोडेक्स VI, थंडर, परफेक्ट माइंड

“मैं वह शब्द हूं जो अकथनीय चुप्पी में वास करता है। मैं शुद्ध प्रकाश में निवास करता हूं और विचार स्वयं प्रकट होता है प्रत्यक्ष रूप से महान ध्वनि के माध्यम से।" ~ नाग हम्मादी, कोडेक्स XIII, ट्रिमोर्फिक प्रोटेनोआ

इस प्रकार  पिता के लोगोज़ सभी में आगे बढ़ते हैं, उनके हृदय का फल और उसकी इच्छा की अभिव्यक्ति होकर। यह सभी का समर्थन करता है। यह चुनता है और सभी का रूप भी लेता है, इसे शुद्ध करता है, और इसे पिता के पास और माँ के पास, परम मिठास के यीशु के पास वापस जाने के लिए।” लोगोज़ का अर्थ है शब्द। ~ नाग हम्दी, कोडेक्स XII, सत्य का गोस्पेल

असीन

"फिर यह है कि आप अपने कानों में ध्वनि की पवित्र धारा जाने दें; क्योंकि इसे केवल मौन में सुना जा सकता है। […] वास्तव में, यह ईश्वर की आवाज़ है, अगर आपने सुनी है तो आपको पता होगा। जैसा लिखा है, शुरुआत में ध्वनि थी , और ध्वनि ईश्वर के साथ थी, और ध्वनि ईश्वर थी। […] यह ध्वनि की पवित्र धारा है जो सितारों के कक्ष से पार जाती है और स्वर्गीय पिता के अंतहीन राज्य के आगे जाती है। यह हमारे कानों में भी है, तो हम इसे नहीं सुनते है। इसे सुनो, फिर, दोपहर के सन्नाटे में; इसमें स्नान करें, और ईश्वर के संगीत के ताल को आपके कानों में बजाने दें जब तक आप ध्वनि की  पवित्र धारा के साथ एक ना हो जाएँ।

[...] और आप ध्वनि की धारा में स्नान करें, और इसके पानी का संगीत आपके ऊपर बहेगा; क्योंकि समय के शुरुआत में हम सभी ने ध्वनि की पवित्र धारा में हिस्सा लिया जिसने सारी सृष्टि को जन्म दिया। और ध्वनि की धारा की शक्तिशाली गर्जना आपके पूरा शरीर को भर देगी, और आप इसकी शक्ति के आगे कांप जाएँगे। फिर हवा की देवदूत की गहरी सांस लें, और स्वयं ध्वनि बन जाएँ, कि ध्वनि की पवित्र धारा आपको स्वर्गीय पिता के अनंत साम्राज्य तक ले जा सके, वहाँ जहाँ दुनिया की ताल उठती है और गिरती है।” ~ शांति का गोस्पेल

आदि…

अधिक जानकारी और मुफ्त डाउनलोड के लिए, कृपया देखें:

SupremeMasterTV.com/SCROLLS

SupremeMasterTV.com/MEDITATION

और देखें
नवीनतम वीडियो
31:08
2024-05-18
31 दृष्टिकोण
6:54
2024-05-17
415 दृष्टिकोण
35:53

उल्लेखनीय समाचार

165 दृष्टिकोण
2024-05-17
165 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड