खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

आंतरिक दिव्य प्रकाश और ध्वनि ध्यान का सही संतुलन आध्यात्मिक प्रगति लाता है

2019-05-13
Lecture Language:English,Mandarin Chinese (中文)
विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो
प्रकाश ध्यान में बैठना आसान है, यह अधिक आरामदायक है, लेकिन ध्वनि ध्यान बिल्कुल आवश्यक है। उदाहरण के लिए, यदि आप प्रकाश पर तीन घंटे ध्यान करते हैं, तो आपको दो घंटे ध्वनि पर ध्यान रखना होगा। क्योंकि सन्तुलित न्यूनतम घर पर डेढ़ घंटे प्रकाश पर और ध्वनि एक घंटे में होता है। इसलिए, यदि आप अधिक ध्यान करते हैं, तो आपको जोड़ते रहना होगा, जैसे अगर तीन घंटे प्रकाश, तो दो घंटे की ध्वनि। साढ़े चार घंटे प्रकाश, फिर तीन घंटे ध्वनि। आपको ऊर्जा को नियमित करना होगा। आपको ऊर्जा को तीसरी आंख तक जाने देना है, और फिर आपके सिर के ऊपर मुकुट चक्र पर। अन्यथा, यदि आप ध्वनि पर पर्याप्त ध्यान नहीं करते हैं, तो ऊर्जा कहीं और अटक जाती है। हो सकता है कि यह सूर्य स्नायुजाल में फंस जाए या आपके गले के केंद्र में अटक गया हो, और यह बाहर निकल रहा हो, सिर के ऊपर तक, और बाहर निकल कर घूम रहा हो। तो, ध्वनि पर ध्यान, प्रकाश के साथ अनुपात बहुत, बहुत, बहुत महत्वपूर्ण है। आपकी शांति के लिए, न केवल आपकी आध्यात्मिक प्रगति के लिए, बल्कि शांतिपूर्ण जीवन के लिए भी। और यह भी कि ज्ञान को अधिक विकसित करने के लिए, क्योंकि अंदर की ऊर्जा का संतुलन करना है।

मेरा मतलब है, हमें ध्वनि ध्यान करना होगा क्योंकि अंदरूनी ध्वनि बहुत महत्वपूर्ण है। अन्यथा, हमारी ऊर्जा संतुलित नहीं होगी। और हमारा जीवन भी संतुलित नहीं होगा। इससे कोई नुकसान नहीं होने वाला है, लेकिन हमारा जीवन इतना संतुलित नहीं होगा। और हम चीजों को इतनी आसानी से नहीं करेंगे। इसलिए, (अंतः दिव्य) प्रकाश ध्यान बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन (अंतः दिव्य) ध्वनि ध्यान भी बहुत महत्वपूर्ण है। ध्वनि ध्यान को प्रकाश ध्यान के साथ करने की आवश्यकता है, ताकि यह स्वर्ग से आई शक्ति को नियंत्रित कर सके। अन्यथा, यह अन्य में फंस सकती है ... इसे संस्कृत में चक्र कहा जाता है। इसका अर्थ है हमारे ऊर्जा केंद्र। हमारी आंतरिक आध्यात्मिक ऊर्जा के लिए बेहतर है कि हम तीसरी आँख या हमारे सिर के ऊपर जाएँ। अगर यह कहीं नीचे की जगह पर अटक जाता है, जैसे कि सूर्य स्नायुजाल, रुदय चक्र, या गले का चक्र, तो यह इतना अच्छा नहीं होगा; इसे ऊपर जाना है। ध्वनि ध्यान इसे ऊपर जाने के लिए मजबूर करेगा, इसलिए हमारा स्तर अधिक हो सकता है, और हम आध्यात्मिक प्रगति कर सकते हैं।

और जब आप घर जाते हैं, तो आपको अपने साथी साधकों को बताना होगा। सभी सीपी (संपर्क व्यक्तियों) से कहें कि साधकों को समूह ध्यान समय और घर में अधिक ध्वनि ध्यान करने के लिए याद दिलाएं। हो सकता है कि कुछ हुफ़ा (धर्म रक्षक) एक छोटी घंटी लेकर आएं। ध्यान करने के लिए हर किसी को बताएं - प्रकाश के बाद - उन्हें घंटी बजने तक ध्वनि पर ध्यान करना है। तो, कम से कम एक घंटा। एक घंटे के बाद घंटी बजती है, तो आप जानते हैं कि यह एक घंटा है। लेकिन आप क्वान क्वांग या प्रकाश की तुलना में क्वान यिन (ध्वनि ध्यान) पर अधिक ध्यान करना चाहते हैं, तो यह ठीक है।

मैंने कहा जब आप वापस जाते हैं, तो दूसरों को ध्वनि पर अधिक ध्यान लगाने के लिए कहें, इसे प्रकाश के साथ संतुलित करें। घर पर, (अंतः दिव्य) प्रकाश ध्यान करने के बाद, आप अलार्म घड़ी सेट कर सकते हैं। इसे बजने के लिए सेट करें, कम से कम एक घंटे बाद, और आपको पता चल जाएगा कि आपने कम से कम एक घंटे के लिए (अंतः दिव्य) ध्वनि पर ध्यान दिया है। अन्यथा, हम बस कुछ समय के लिए बैठते हैं, और हम सोचते हैं कि यह एक घंटे अब हो गया। और घड़ी को देखते रहना भी अच्छा नहीं होगा।

लेकिन आपको पहले (अंतः दिव्य) प्रकाश ध्यान करना होगा। पहले प्रकाश ध्यान करना है। पाँच नामों को याद करें और फिर (अंतः दिव्य) ध्वनि पर ध्यान करें। यह ठीक है, यदि आपके पास पूरे करने का समय नहीं है डेढ़ घंटे लेकिन आपके पास समय हो सकता है ... आपके पास केवल एक घंटा है, तब आप शायद प्रकाश पर 40 मिनट और फिर ध्वनि पर 20 मिनट करते हैं। उदाहरण के लिए, कम या ज्यादा आनुपातिक। और फिर यदि आपके पास अधिक समय नहीं है, तो आप पहले पांच नामों का पाठ करें। शायद आपके पास केवल 15 मिनट हों, तब आप पाँच नामों का पाठ करें और आप ध्वनि का ध्यान करे। 10 मिनट के लिए पवित्र नाम याद करें और फिर आप पांच मिनट के लिए ध्वनि ध्यान करें।
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-04-13
59 दृष्टिकोण
2024-04-13
43 दृष्टिकोण
31:36
2024-04-12
27 दृष्टिकोण
31:32

उल्लेखनीय समाचार

106 दृष्टिकोण
2024-04-11
106 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड