खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

सच्चे गुरु से अनंत प्रेम और रक्षा

2018-10-15
Lecture Language:English,Mandarin Chinese (中文)
विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो
बधाई हो। आप बहुत भाग्यशाली लोग हैं। बहुत भाग्यशाली लोग। आज से, आप स्वतंत्र हैं। आपकी आत्मा मुक्त है। हाँ। आपकी आत्माएं मुक्त हैं। आपको कभी नहीं ... दीक्षा के बाद, आपकी आत्माएं, आपकी आत्मा मुक्त है। आपको कभी भी नहीं दोबारा से पुनर्जन्म लेना पड़ेगा पीड़ा और मरने की स्थिति में जैसे इस दुनिया में होता है। आपको पुनर्जन्म नहीं लेना पड़ेगा, फिर से बूढ़ा नहीं होना पड़ेगा, कभी पीड़ित नहीं होना पड़ेगा। किसी भी प्रकार की बीमारी या पीड़ित होने की ज़रूरत नहीं होगी और कभी नहीं दोबारा से मरना पड़ेगा। मेरा मतलब है, दोबारा से कभी भी नहीं इस मरने की प्रक्रिया का अनुभव करना होगा, जो डरावना और दर्दनाक और तकलीफदय होता है और खुद के लिए और परिवार के सदस्यों के लिए दुखदायी।

आप भाग्यशाली लोग हैं। बस ध्यान करने की कोशिश करो, ठीक है? हाँ। आप इसके अभ्यस्त हो जाएंगे। और तब जितना अधिक आप ध्यान करेंगे उतना अधिक आप इसे पसंद करेंगे। और जितना अधिक आप ... आप महसूस नहीं करना चाहते ... आप नहीं चाहते हैं दुनिया से अधिक जुड़े रहना या अब किसी भी सांसारिक चीजों से, धीरे - धीरे। आप अभी भी अपना काम करोगे, आप अभी भी अपने परिवार से प्यार करोगे, लेकिन आप जुड़े हुए महसूस नहीं करेंगे उतना ज्यादा, पहले की तरह। आप वास्तव में मुक्त महसूस करेंगे। और दैनिक अभ्यास से, आपको अधिक से अधिक आंतरिक अनुभव होंगे, आंतरिक दृष्टि के भगवान के, स्वर्ग के। इसके अलावा, आपके बाहरी दुनिया में दैनिक जीवन में चमत्कार के अधिक अनुभव होंगे। और फिर आप महसूस करेंगे आप दुनिया में रहते हैं, लेकिन आप दुनिया में नहीं हैं अब, कमल की तरह जो अभी भी मिट्टी में है लेकिन कभी गंदे पानी से खराब नहीं होता। आप बहुत, बहुत मुक्त महसूस करेंगे, बहुत शुद्ध, बहुत साफ, भले ही आप अभी भी दुनिया में हैं और सांसारिक चीजें कर रहे हैं, जैसे खुद के लिए और परिवार के लिए काम करते है, पैसे कमाते है, शारीरिक जीवन के लिए कमाई करते है, लेकिन आप इतने जुड़े हुए महसूस नहीं करोगे इन सभी सांसारिक इच्छाओं के लिए। जो आपके पास है, आपके पास है। जो आपके पास नहीं है, आपको बुरा नहीं लगता। जो आपके पास नहीं है, आप उपयोग नहीं करते हैं।

और आप आज से बहुत, बहुत खुश होंगे, क्योंकि आप देखेंगे आपका जीवन बेहतर के लिए बदल रहा है, हर समय, हर समय, पूरे समय। सिर्फ एक दिन नहीं, दो दिन नहीं, लेकिन हर दिन। हर दिन आपके लिए नया है। हर दिन एक आश्चर्य है, चमत्कार है। हर दिन एक चमत्कार है। हर दिन चमत्कारी है। कई चमत्कार हैं (जो) होंगे। लेकिन यह चमत्कार नहीं होते जो हम चाहते हैं। यह सिर्फ उप-उत्पाद है भगवान की शक्ति का जो खुद के भीतर दोबारा से प्रबुद्ध होता है और आपका ख्याल रखेगा हर संभव तरह से, ताकि आपके जीवन में कभी कोई कमी ना हो। आप अनुभव कर सकते हैं कभी-कभी बार-बार, शायद कभी कभी, सांसारिक गड़बड़ियों को, आप जानते हैं, हर किसी की तरह, लेकिन फिर आप देखेंगे आपका जीवन आसान हो रहा है। हर परेशानी हल हो जाएगी जल्दी या आसानी से। या यहां तक ​​कि परेशानी भी यदि हो, आप परेशानी महसूस नहीं करेंगे या कुछ भी अब और पहले के समान। आप एहसास करोगे, आप जानते हैं, हल्का। आपको लगेगा आप इसे स्वीकार कर सकते हैं। आपको कुछ ऐसा महसूस नहीं होगा अब और वास्तव में कुछ महत्वपूर्ण है अंदर की शक्ति को छोड़कर जो हर चीज का ख्याल रखता है। और यह आपको खुश कर देगा, और आप प्रभावित होंगे एक बेहतर तरीके से, और अधिक खुश तरीके से, आप के चारों ओर हर किसी के प्रति। आस – पास अपने परिवार के लिए, आपके लेकर बेहतरीन बदलाव होगा आपके लिए, हर समय, दिन-प्रतिदिन। वह भगवान की शक्ति है। वह गुरुजी की शक्ति है जो आपने आज थोड़ा सा अनुभव किया है, बस इसका स्वाद लेने के लिए, बस यह जानने के लिए गुरुजी की शक्ति मौजूद है। क्या आपने कुछ अनुभव किया है? हाँ? (हाँ।) ठीक है।

यदि आपने देखा है भगवान का प्रकाश, वह भगवान का प्रकाश है जो प्रकट हुआ है। क्योंकि भगवान निराकार है, भगवान प्रकाश है, भगवान प्यार है और भगवान चमत्कारी धुन है जो आपने आज सुनी है, भीतर में। कान के साथ नहीं, लेकिन अंदर से, आपकी आत्मा के साथ। और यदि आपने प्रकाश देखा है, आपने ध्वनि सुनी है, वह भगवान की शिक्षा है, भाषा के बिना शिक्षण। और प्रकाश है भगवान का अभिव्यक्ति, जो आपको घेरे रहेगा, आपके भीतर रहेगा, आपके बिना, क्योंकि आप प्रकाश हैं, आप भगवान और अपने आप का हिस्सा हैं जो आज इसका एक हिस्सा अनुभव किया।

यदि आप ने शायद नहीं अनुभव किया या (आप थे) नींद में, आप क्वान यिन मैसेंजर से पूछ लेना इसे फिर से दिखाने के लिए। ठीक? मैंने उन्हें वहां कुछ समय के लिए रहने के लिए कहा है आपके सवालों के जवाब देने के लिए, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप इसे सही से करें घर जाने से पहले। जब आप घर जाओगे, आपको किसी की जरूरत नहीं होगी आपको कुछ भी सिखाने के लिए अंदर गुरुजी की शक्ति आपका ख्याल रखेगी, आपको सिखाएगी जो भी आपको जानने की जरूरत है।

और यदि आपके कोई प्रश्न हैं, आपको बस इतना करना है पूछो या लिख डालो और आपको अंदर से जवाब मिलेगा। आप इसे जान लेंगे। आपको जवाब पता चलेगा मौखिक भाषा के बिना, या कभी-कभी, यहां तक ​​कि गुरुजी आपसे बात करेंगे आपकी भाषा में भी, यदि आवश्यक होगी। आप देख सकेंगे गुरुजी को अपने घर में, जब भी आपको जरूरत होगी, या यदि आप नहीं देख सकेंगे, गुरुजी हमेशा आपके साथ रहते है आपकी २४ घंटे रक्षा करते हैं, आपको मार्गदर्शन करवाते हुए, आपकी मदद करेंगे हर तरह से जरूरत अनुसार, जब भी आपको जरूरत होगी। तो, आपके पास आपके जीवन का सबसे अच्छा दोस्त है। किसी भी सबसे अच्छे दोस्त से बेहतर जिसे भी आप जानते हैं, (जो) आपके साथ रहेंगे जीवन और मृत्यु में। और जब आप इस दुनिया को छोड़ेगे, आखिरी बार, मेरा मतलब भौतिक शरीर छोड़ोगे आखिरी बार जभी भी, गुरुजी वहाँ होंगे आप के साथ, आपको शुभकामनाएं देते हुए, आपको वापस लेकर जाएगे सुरक्षित स्वर्ग में जिस स्थान से आप हो।

बस सुनिश्चित करें आप निर्देशों का पालन करें कोई निर्देश मत बदलें दीक्षा प्राप्त करते समय की। सुनिश्चित करें कि आप पाचों आदेशों का पालन करें। यह आपकी गुमराह होने से बचाने के लिए है और माया द्वारा भटकने से। माया भ्रम का राजा है। वह अभी भी हमेशा आसपास चारों ओर रहेगा, आपके लिए परेशानी करने के लिए। लेकिन अगर आप पालन करते हैं पाचों आदेशों को, पांच सुरक्षित नामों को जापे, सुरक्षात्मक पवित्र नामों को हर समय, फिर आपका जीवन स्वर्ग के समान होगा। आपको कभी भी किसी प्रकार की परेशानी नहीं होगी, कहीं भी आप जाते हो। गुरुजी की शक्ति हमेशा वहाँ होगी। गुरुजी हमेशा आपके साथ रहेंगे। यही कारण है कि मैं आज वहाँ नहीं हूँ। मेरा होना जरूरी नहीं है। मैं आपके साथ हूँ। समझे?

मैं आपके साथ हूँ। हालांकि भौतिक रूप से नहीं। लेकिन शायद आपने में से कुछ ने मुझे अंदर देखा है। आप में से किसी ने भी देखा है वहां गुरुजी को? (हाँ।) ठीक है। यह अच्छा है। यदि आप में से कुछ ने देखा है, यह अच्छा है। यदि नहीं, तो आप देखेगे, या इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, गुरुजी हमेशा वहाँ आपके साथ है। पर निर्भर करता है आपकी एकाग्रता पर, और निर्भर करता है आपकी आंतरिक ईमानदार लालसा पर, (चाहे) आप देखेंगे गुरुजी को या नहीं। या आवश्यक है या नहीं। लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता (अगर) आप देखते हैं या नहीं देखते हैं, गुरुजी हमेशा आपके लिए है, आपके साथ, 24/7 । जीवन और मृत्यु से परे, हमेशा आपके साथ। ठीक है? गुरुजी आपको कभी नहीं छोड़ेगा, क्योंकि गुरुजी आपको प्यार करते है। आप प्यार का अनुभव करेंगे। शायद आपने अनुभव किया है, आप में से कुछ ने आज किया है। भगवान प्यार है। भगवान प्रकाश है। इसलिए, अगर आज आपने अनुभव किया प्रकाश और प्यार को, और रोज करोगे, अपने दैनिक जीवन में, यह भगवान का आपका अनुभव है। और कभी-कभी आप भगवान को प्रकट हुए देखेंगे, शायद यीशु के रूप में, बुद्ध के रूप में, आंतरिक गुरुजी के रूप में। हाँ? बस आपको आराम देने के लिए या आपसे बात करने के लिए या जवाब देने के आपके कुछ प्रशनों के।

बस मेहनती और ईमानदार रहो और पांच आदेशों का पालन करें, ताकि माया, राजा ... बुराई के राजा को कभी कोई बहाना नहीं मिलना चाहिए आपको परेशान करने का। ठीक? या आपको भटकाने के लिए किसी भी तरह से। नियमों को रखें। पांच नामों को रखें। ढाई घंटे ध्यान करें प्रतिदिन, या जितना आप कर सकते हैं, और भी अधिक। गुरुजी हमेशा वहाँ रहते है। आप कभी अकेले नहीं हैं, आज से। गुरुजी हमेशा वहाँ है आपकी देखभाल करने के लिए। हमेशा गुरुजी को याद रखें। हमेशा याद रखें पांच पवित्र देवताओं को। याद है ना? ठीक है? और आप ठीक रहोगे।

आप सब आज बहुत उज्ज्वल लग रहे हैं। आपने अच्छी तरह से ध्यान केंद्रित किया लगता हैं। अच्छा है। आपके लिए अच्छा हैं। इस तरह के विश्वास रखें और एकाग्रता शक्ति को, आपके साथ एकाग्रता क्षमता को हर समय। हर समय। इस जगह से जाने के बाद, आप जारी रखना इस तरह की एकाग्रता को आपके दिल में। (अपनी) एकाग्रता को रखना तीसरी आंख पर, और फिर आपको कभी कोई समस्या नहीं होगी। मैं आपको वादा करती हूँ। न केवल आप लेकिन आपके पांच, छः, सात, आठ, नौ पीढ़ी की भी मदद की जाएगी, मुक्त हो जाएगे। इससे और बेहतर क्या हो सकता है? है ना? इससे और कितना बेहतर हो सकता है? हम और क्या चाहते हैं? सही? सही? (हाँ।)

फिर, मैं आपसे मिलूँगी जब भी भगवान की इच्छा हो। ठीक है? मुझे और ध्यान करने की ज़रूरत है, अधिक एकांतवास, और मेरे को बहुत सारे, बहुत सारे काम भी करने है, एकांतवास और ध्यान के अलावा लेकिन मुझे आपको देखना अच्छा लगता है। मुझे आपको देखना अच्छा लगता है। मुझे अब आपसे बात करके अच्छा लगा। और शायद भविष्य में, यदि संभव हो, हम एक दूसरे को फिर से मिलेंगे।

अच्छे से ध्यान रखना। गुरुजी को याद रखें। भगवान को याद रखें। ठीक है? ठीक है। मैं आपसे प्यार करती हूँ। मैं आपसे प्यार करती हूँ। मैं आपके परिवार से भी प्यार करती हूँ। मुझे वह सब पसंद है जिसे आप पसंद करते हैं, लेकिन सांसारिक अर्थ में नहीं। मैं हमेशा आपसे प्यार करती हूँ। आपके पास चारो ओर मैं हमेशा रहूँगी। ठीक है? आप हमेशा एक दिन के २४ घंटे गुरुजी पर भरोसा कर सकते हैं। शारीरिक नहीं, इस शरीर को नहीं, लेकिन आपके आंतरिक गुरुजी पर। ठीक है? गुरुजी जो भगवान के साथ एक है। गुरुजी जो सर्वव्यापी, सर्वशक्तिमान है। गुरुजी पूरे प्यार है। वह गुरुजी है। चाहे आप यह भौतिक शरीर को देखे या नहीं, वह गुरुजी हमेशा आपके साथ रहते है। ठीक है?
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-06-25
141 दृष्टिकोण
38:12

उल्लेखनीय समाचार

203 दृष्टिकोण
2024-06-23
203 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड