खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • Bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • Čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • Русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • Polski
  • Italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • अन्य
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • Bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • Čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • Русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • Polski
  • Italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • अन्य
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

To Reveal the Challenge that Humans Face in this Illusionary World and to Show How Hard the Job of Being a Master Is

विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो
और अब हमारे पास आयरलैंड से ऐभा का हार्टलाइन है:

परम परिपूर्ण एवं परम प्रिय प्रभु परमेश्वर के अवतार सुप्रीम मास्टर चिंग हाई जी और परिश्रमी सुप्रीम मास्टर टीवी टीम, मैं 2022 में लंदन सेंटर के समूह ध्यान में भाग लेने के दौरान मुझे प्राप्त हुए एक आंतरिक अनुभव को साझा करने के लिए लिख रही हूं, यह बताने की कोशिश में कि हम इंसानों को जागृत करना कितना कठिन है।

आंतरिक स्वर्गीय प्रकाश पर ध्यान केंद्रित करते समय, मेरे सामने एक विशाल दीवार दिखाई दीया। यह रेत के रंग का था, लेकिन बहुत अविश्वसनीय रूप से मोटा था। इसकी नींव वैसी ही थी जैसी की यह कोई गगनचुंबी इमारत हो और यह आसमान की ओर दुर, दुर, दुर तक फैली हुई थी। लेकिन पृथ्वी के किसी शहर की गगनचुंबी इमारत के विपरीत, जहाँ हम जानते हैं कि यह कहीं खत्म हो जाती है, यह दीवार वास्तव में इतनी ऊँची थी कि मैं इसका शीर्ष या यह कहाँ खत्म होती है, यह बिल्कुल भी नहीं देख पाई। ऐसा लगा जैसे यह बस ऊपर और ऊपर और ऊपर और ऊपर और ऊपर ही जा रही थी। दीवार न केवल आकाश की ओर, बल्कि मेरी बायीं ओर भी असीमित रूप से फैली हुई थी। और मेरे दाहिनी ओर भी। इसने मुझे याद दिलाया कि जेरिको की दीवारें कैसी रही होंगी। यद्यपि दिन धूप वाला और उज्ज्वल था, अकेलेपन की असाधारण अनुभूति महसूस हुई। यह मेरा अकेलापन नहीं था। मैं ठीक थी, बस इस विशाल दीवार की अभेद्यता से आश्चर्यचकित थी! अलगाव के इस एहसास से स्पष्ट हुआ कि यह सुरक्षा के लिए नहीं, बल्कि कैद करने के लिए बनी दीवार थी।

जैसे ही मैं ऊपर, बाएँ और दाएँ घूरती हुई खड़ी थी, और मुझे एहसास हुआ कि मैं उसके आगे कितनी छोटी थी, ईश्वर की आवाज़ प्रकट हुई, दीवार से बहुत बड़ी लेकिन पूरी तरह से निराकार। प्रभु की आवाज़ ने सारी जगह घेर ली लेकिन फिर भी यह शांत थी और उन्होंने कहा: “यह इंसानों का मन है; उन्हें बचाने के लिए मुझे इसे पार करना होता है।" इसमें कोई संदेह नहीं था कि उस दीवार के पीछे परस्पर जुड़ी हुई चेतनाओं का एक समूह कैद था जो मानव थे। वे दूर थे लेकिन समान रूप से वहीं थे। वे इंसानों की सांसारिक चीज़ों में उलझे हुए थे, लौकिक और मामूली चीज़ों में और अपने वर्तमान जीवन से परे की किसी भी चीज़ से अनजान थे।

मुझे इस महा विशाल कार्य के लिए गुरुवर के बोझ और मनुष्यों के लिए बहुत दुख हुआ। मुझे भी खेद था, क्योंकि मैं जानती थी कि मेरा मन निश्चित रूप से कई जन्मों में उस विशाल दीवार का हिस्सा रहा है, जिसमें यह वर्तमान जन्म भी शामिल है। हमारे पास आना कितना कठिन है... आपको अनंत धन्यवाद और प्रसंशाएं, गुरुवर, सभी बाधाओं के बावजूद, हममें से अधिक से अधिक लोगों को बचाने की कोशिश करने के लिए बहुत बार बलिदान देने के लिए। आपकी जय हो, गुरुवर, जैसे स्वर्ग की तुरहियां उस मन की दीवार को गिरा देती है। एक भाग्यशाली और बहुत आभारी पृथ्वी-लोक की शिष्या, आयरलैंड से ऐभा

अंतर्दृष्टिपूर्ण ऐभा, अपनी शक्तिशाली आंतरिक दृष्टि को हमारे साथ साँझा करने के लिए धन्यवाद। यह सोचना बहुत दुखद है कि परमेश्वर हमारे आसपास ओर और हमारे भीतर हैं, फिर भी, यह केवल हमारा मन ही है जो हमें यह जानने से वंचित करता है। इस प्रकार, हम इसके बजाय पीड़ा और अर्थहीनता में जीते हैं। हम सच में बहुत भाग्यशाली हैं कि हमें हमारे परम प्रिय गुरुवर मिले जिन्होंने हमें इस दीवार से ऊपर उठने में मदद की ताकि हम स्वयं परमेश्वर को देख और सुन सकें। आप और उत्साहपूर्ण आयरिश लोग अपने भीतर ईश्वरीय उपस्थिति के प्रति और अधिक गहराई से जागृत हों, सुप्रीम मास्टर टीवी टीम

साथ में, गुरुवर के पास आपके लिए ज्ञान के कुछ शब्द हैं: "मुक्त ऐभा, आपकी आंतरिक दृष्टि उस चुनौती को स्पष्ट रूप से दिखाती है जिसका सामना मनुष्य इस भ्रमात्मक दुनिया में करते हैं और यह आपको दिखाता है कि एक गुरु होने का कार्य वास्तव में कितना कठिन है। कई लोग आदतों और इस विश्वास के कारण अपने मन की दुनिया में फंसे हुए हैं क्यों की वह मानते हैं की वे शरीर हैं। उनके मन में वही विचार, पैटर्न और भावनात्मक प्रतिक्रियाएं दोहराती रहती है। आपने अपनी दृष्टि में जो दीवार देखी थी, वह इसे दर्शाती है, साथ ही वह कर्म जो वह पैटर्न पैदा करते हैं, उनका भी यह प्रतिनिधित्व करती है। इस पिंजडे से बाहर निकलने का एकमात्र रास्ता आध्यात्मिक अभ्यास और एक आत्मज्ञानी गुरु की खोज है जो पहले से ही इस अवरोध से ऊपर हैं और दूसरों को इसके पार देखने और इससे ऊपर उठने में मदद कर सकते हैं। इसे साँझा करने के लिए धन्यवाद, मेरी प्रिय। शायद इससे कुछ लोगों को जीवन को बेहतर ढंग से समझने और बदलाव के लिए प्रेरित करने में मदद मिल सकती है। कामना है कि आप और खूबसूरत आयरलैंड हमेशा ईश्वर के उज्ज्वल प्रेम की शाश्वत धूप का अनुभव करें।"
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-07-14
184 दृष्टिकोण
4:23

Blessed is the world! The Lord is back!!

2024-07-13   2222 दृष्टिकोण
2024-07-13
2222 दृष्टिकोण
2024-07-13
365 दृष्टिकोण
2024-07-13
605 दृष्टिकोण
35:10

उल्लेखनीय समाचार

2024-07-12   103 दृष्टिकोण
2024-07-12
103 दृष्टिकोण
2024-07-12
570 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड