खोज
हिन्दी
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
  • English
  • 正體中文
  • 简体中文
  • Deutsch
  • Español
  • Français
  • Magyar
  • 日本語
  • 한국어
  • Монгол хэл
  • Âu Lạc
  • български
  • bahasa Melayu
  • فارسی
  • Português
  • Română
  • Bahasa Indonesia
  • ไทย
  • العربية
  • čeština
  • ਪੰਜਾਬੀ
  • русский
  • తెలుగు లిపి
  • हिन्दी
  • polski
  • italiano
  • Wikang Tagalog
  • Українська Мова
  • Others
शीर्षक
प्रतिलिपि
आगे
 

Following the Sacred Teachings of Masters Will Lead Easily to Heaven on Earth

विवरण
डाउनलोड Docx
और पढो
नमस्कार, परम प्रिय गुरुवर, गुरुवर मेरे पास आए और उन्होंने मुझे दिखाया कि यह ब्रह्मांड कैसे अस्तित्व में आया था। बाद में, जब मैंने आपकी "शांतिपूर्ण समय" पेंटिंग देखी, इसके अर्थ ने मुझे वही एहसास कराया जैसे मेरे आंतरिक अनुभव में खुलासा किया गया था, जो कि जब सृष्टिकर्ता द्वारा निर्भर उत्पत्ति के 12 कड़ियों के जरिए हमारी दुनिया बनाई गई थी, इसमें चेतना के तीन अलग-अलग बुद्धिमान लोक शामिल थे।

पहला: शून्यता का संसार जो निर्भर उत्पत्ति के नियम के माध्यम से कर्म प्रतिफल से मुक्त करता है; दूसरा: आध्यात्मिक संसार जहां कर्म का नियम यानी की जैसी करनी वैसी भरनी को लागू किया जाता है; तीसरा: भौतिक संसार, जहां प्रकृति के नियम के अनुसार, कमजोर पर मजबूत विजय होता है।

मैंने देखा कि कैसे पृथ्वी बनी है, जिसमें पाँच तत्व मौजूद होते हैं, यानी भौतिक संख्या, आकार, क्रिया, ध्वनि और प्रकाश, और हमारी पृथ्वी पर, चेतना के आठ स्तरों की दुनिया मौजूद हैं। मनुष्य, बुद्धिमान दुनिया के नियमों का एहसास करने में सक्षम हैं, चेतना के विकास के आठ युगों के मार्ग से गुजरते हैं, अज्ञानी, अंधेरे चेतना से लेकर पूर्ण आत्मज्ञान के युग तक, आध्यात्मिक चेतना के एक लाख प्रकाश की गति के साथ।

आज हम चौथे युग से पांचवें युग में जा रहे हैं। यह आपको चंगेज खान द्वारा भेजा गया था, जो आपके पिछले पुनर्जन्मों में से एक हैं, जिसे "मंगोलों का गुप्त इतिहास" और "चंगेज खान की स्वर्णिम धुन का रहस्य" नामक दो गुप्त पुस्तकों में भेजा गया था। इस रहस्य को "तत्काल आत्मज्ञान की कुंजी" पुस्तकों में आपकी शिक्षाओं ने खुलासा किया है, इस प्रकार यह नए युग में आगे बढ़ने का मार्ग बन गया है। यह भविष्यवाणी की गई है कि गुरुवर द्वारा लिखी गई इन तीन पुस्तकों के बिना मानव जाति के लिए नए युग में उन्नत होना असंभव है।

भविष्यवाणियां इस बारे में हैं कि कैसे सुप्रीम मास्टर चिंग हाई जी नए युग की चेतना के स्तर को ऊपर उठा रहे हैं, और चंगेज खान का गुप्त आदेश प्राप्त करने वाले मंगोलियाई लोगों को नए युग की राज्य प्रणाली, एक पारदर्शी ई-सरकार की स्थापना करनी चाहिए। इससे दुनिया के सभी देशों के लिए एक नई और वीगन सभ्यता की ओर बढ़ना संभव हो जाता है। मंगोलिया से बत्जरगल

प्रेरित बत्जरगल, आपकी मनमोहक दिल की बात पढ़कर खुशी हुई। गुरुवर के पास आपकी प्रबुद्ध आत्मा के लिए एक प्यार भरा जवाब है:

"ईमानदार बत्जरगल, जब हम आत्मज्ञानी होते हैं, तो हमें ब्रह्मांड में जीवन की प्रकृति का खुलासा करने वाली अद्बुत रहस्योद्घाटनों तक पहूंच मिलती है। हमारी बुद्ध प्रकृति के साथ हमारे संपर्क के जरिए सब कुछ समझा जा सकता है। इसी कारण यह देखकर बहुत दुख होता है कि, मनुष्य कैसे अपने जीवन जी रहे हैं, अपनी दिव्यता से अलग होकर और एक विनाशकारी जीवन जी कर, जो उन्हें नरक में ले जाएगी। अतीत और वर्तमान के गुरुओं के सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, अधिकांश मनुष्य उन पवित्र शिक्षाओं को अनदेखा करते हैं जो इतनी आसानी से पृथ्वी पर स्वर्ग तक ले जा सकती हैं यदि सभी उनका पालन करें तो। यह देखकर मेरे दिल में हर दिन बहुत गहरी पीड़ा होती है। आप और उदार मंगोलियाई लोग हमेशा बुद्धों के प्रेमपूर्ण आलिंगन में रहें।"
और देखें
नवीनतम वीडियो
2024-06-25
638 दृष्टिकोण
38:12

उल्लेखनीय समाचार

2024-06-23   110 दृष्टिकोण
2024-06-23
110 दृष्टिकोण
41:05

मानव शरीर की अनमोलता

2024-06-22   20328 दृष्टिकोण
2024-06-22
20328 दृष्टिकोण
साँझा करें
साँझा करें
एम्बेड
इस समय शुरू करें
डाउनलोड
मोबाइल
मोबाइल
आईफ़ोन
एंड्रॉयड
मोबाइल ब्राउज़र में देखें
GO
GO
Prompt
OK
ऐप
QR कोड स्कैन करें, या डाउनलोड करने के लिए सही फोन सिस्टम चुनें
आईफ़ोन
एंड्रॉयड